किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे दे ?


आज बताएंगे आपको कि किसान क्रेडिट कार्ड हर किसान के पास होना क्यों जरूरी है और कैसे आप इसे बनवा सकते हैं।






    किसान क्रेडिट कार्ड के बारे में

    दो तीन अक्षर की शॉर्ट फॉर्म केसीसी यह तो आपने सुनी ही होगी। इसकी फुल फॉर्म है किसान क्रेडिट कार्ड और बीते कुछ सालों से इसकी अनिवार्यता कितनी ज्यादा बढ़ गई है एक किसान होने के नाते यह तो आप सब जानते ही होंगे। ऐसे में अगर आप किसान क्रेडिट कार्ड से वंचित है तो तुरंत जाइए और आज ही सबसे पहले अपना किसान क्रेडिट कार्ड बनवा। एक किसान के लिए किसान क्रेडिट कार्ड इतना क्यों है यह बताने से पहले चली आपको यह बताते है कि किसान क्रेडिट कार्ड की शुरुआत कब और किस उद्देश्य से हुई थी।
    किसान की आर्थिक जरूरतों को आर्थिक समस्याओं के समाधान के लिए साल 1998 में
    भारत सरकार ने बतौर तोहफा किसान के लिए यह योजना लाई थी किसान क्रेडिट कार्ड जो कि एक अग्रणी ऋण वितरण प्रणाली है। नाबार्ड रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा शुरू की गई किसान क्रेडिट कार्ड की के तहत फसली ऋण लेकर किसान अपनी कृषि उपकरणों खाद, बीज, कीटनाशक , रसायन आदि की खेती संबंधित तमाम जरूरतों की पूर्ति कर सकता है। और उत्पादन को बेचकर इस ऋण की अदायगी कर सकता है। आपको बता दें कि केसीसी के माध्यम से किसान कृषि संबंधी जरूरतों के अलावा अपने घरेलू जरूरत जैसे रोजगार और मत्स्य पालन आदि के लिए भी अल्पावधि कर ले सकता है। किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसान 50 से लेकर ₹300000 तक का कर्ज उठा सकता है। लेकिन अपनी भूमि के आधार पर एक किसान को कितना कर्ज मिलेगा यह तय होता है किसान की आय , उसके क्रेडिट हिस्ट्री, कृषि योग्य भूमि के क्षेत्र पिछली फसल के उत्पादन भूमि की उर्वरता और खेत को फिर से कृषि योग्य बनाने में लगने वाली लागत के आधार पर।  किसान क्रेडिट कार्ड पर मिलने वाले कर्ज में ब्याज का प्रतिशत काफी कम रहता है।  

    केसीसी के तहत दिए जाने वाले लोन में 2 कैटेगरी 

     १. क्रॉप लोन 

                 यानी की फसलें ऋण ।  किसान क्रेडिट कार्ड एक बार बनवाने पर 5 साल के लिए वैध होता है मान्य होता है तो कोई भी किसान इन 5 वर्षों में ₹300000 तक का अल्पावधि जो फसल कर्ज है ले सकता है। इस कर्ज पर ब्याज की दर सालाना 7% की होती है। लेकिन अगर कोई किसान 1 साल के अंदर अंदर अपना कर चुका देता है तो उसे ब्याज दर में 3% की छूट मिलती है इस तरह जो ब्याज का प्रतिशत है यह घटकर 4% सालाना रह जाता है। 

    फसल ऋण लेने पर फसल बीमा की सुविधा होती है। प्राकृतिक आपदा यकृत रोगों का प्रकोप फसल उससे बर्बाद हो जाए तो ऐसी स्थिति में केसीसी किसान को सहायता प्रदान करता है।


    २. टर्म लोन 

              ₹300000 से ऊपर आप जो भी लोन लेते हैं वह टर्म यानी कि मैं मियादी ऋण  कहलाता है। अब ₹300000 के ऊपर आपको कितना कर्ज मिल सकता है। मिलेगा भी या नहीं मिलेगा अगर मिलेगा तो उस पर कितना ब्याज लगेगा यह सब तय करती है लोन देने वाली बैंक इसमें सरकार की ओर से किसान को कोई रियायत या अनुदान नहीं दिया जाता। केसीसी की खूबी यह है कि इसके तहत किसान को कृषि कार्यों के अलावा अन्य कारण के लिए भी लोन आसानी से मिल जाता है।
    इसकी प्रक्रिया इतनी सरल इतनी आसान होती है कि एक कम पढ़ा लिखा या अशिक्षित व्यक्ति भी आसानी से इसमें लोन प्राप्त कर सकता है। इसके साथ ही इंश्योरेंस कवरेज भी किसान को दिया जाता है।
    किसान क्रेडिट कार्ड धारकोको को दुर्घटना बीमा कवर भी दिया जाता है जिसके तहत कृषि कार्यों के दौरान दुर्घटना में अगर किसान की मृत्यु हो जाती है तो ₹50000 और अगर किसान विकलांग हो जाते हैं तो ₹25000 की राशि बताओ मोहब्बत में दी जाती है। और यह खबर धारक के लिए 70 साल की उम्र तक मान्य होता है। किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को क्रेडिट कार्ड के साथ-साथ पासबुक भी जाती है। इस पासबुक में कार्ड धारक का नाम पता कृषि भूमि की जानकारी उधार की अवधि कार्ड का वैलिडिटी पीरियड और भारत की पासपोर्ट साइज फोटो लगी होती है।
    किसान के लिए यह किसान क्रेडिट कार्ड एक परिचय पत्र की तरह भी काम करता है।

    किसान क्रेडिट कार्ड के लिए कोण आवेदन दे सकता है।


    किसान क्रेडिट कार्ड के लिए ऐसा कोई भी व्यक्ति आवेदन कर सकता है। जो किसान हो फिर चाहे वह अपनी भूमि पर खेती करता हूं या किसी और की भूमि पर खेती करता हूं फसल उत्पादन से जुड़े लोग भी एकल हो या फिर सम्मिलित होकर किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन दे सकते है।

    किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं। 


    किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये 


           किसान क्रेडिट कार्ड आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक से जाकर बनवा सकते हैं। भारत के किसी भी हिस्से में रहने वाला हर छोटा-बड़ा किसान इसका लाभ ले सकता है। किसान क्रेडिट कार्ड सीधा किसान के खाते से लिंक होता है। ताकि किसान के खाते में उसकी रकम है कर्ज क्यों बची हुई है तो उस पर किसान को ब्याज भी मिलता रहे अगर आप एक किसान हैं तो बेशक किसान क्रेडिट कार्ड आपके पास भी होना चाहिए अगर नहीं है तो तुरंत जाइए क्योंकि सरकार जी पिछले काफी समय से देश के हर किसान परिवार तक किसान क्रेडिट कार्ड यानी कैसे से पहुंचाने की योजना पर काम कर रही है। मौजूदा समय में देश में सात करोड़ के करीब किसान परिवारों के पास केसीसी और सरकार 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले पहले केसीसी के दायरे को बढ़ाकर दोगुना यानी 14 करोड करना चाहती हैं। 

                 अब यहां ऐसे किसानों के लिए खुशखबरी है , जिन्होंने अभी तक केसीसी नहीं लिया है कि किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए किसानों को बैंक के चक्कर बार-बार नहीं लगाने पड़ेंगे क्योंकि केसीसी बनवाने की प्रक्रिया पहले और सरल कर दी गई है फिर भी हटा दी गई है। आपको बता दें कि किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने में अभी तक 2000 से लेकर 5000 तक का खर्च आता था लेकिन हाल ही में इंडियन बैंक एसोसिएशन ने एक एडवाइजरी जारी की है जिसमें सभी बैंकों को कहा गया है कि केसीसी बनवाने में लगने वाली फीस कर्ज माफी से जुड़े दस्तावेज जांच समय आने पर लगने वाला चार्ज हटा दिया जाए उसमें छूट दी जाए क्योंकि सरकार की प्लानिंग किसानों को कर्ज माफी से बेहतर कम दर पर लोन मुहैया कराने की है। और रिजर्व बैंक ने भी इस बात की वकालत की है।



    किसान क्रेडिट कार्ड बनानबे में लगने वाले दस्तावेज


    3 दस्तावेजों में आप किसान क्रेडिट कार्ड बनवा पाएंगे अभी तक कैसे से बनवाने के लिए पहचान  पत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, एड्रेस प्रूफ, राशन कार्ड, भूमि के दस्तावेज, और गारंटर की भी जरूरत होती थी।  लेकिन अब आप कैसे से पाने के लिए इन तमाम दस्तावेजों की वजह सिर्फ ३  डॉक्यूमेंट ले जा सकते हैं। 


      १.भूमि के मालिकाना हक का रिकॉर्ड आपके पास होना चाहिए 


     २.एड्रेस प्रूफ यानी कि निवास प्रमाण पत्र पर


     ३.हलफनामा आवेदक के पास पहले से किसी और बैंक का लोन नहीं है। 


         सिर्फ इन दस्तावेजों के आधार पर आप अपना केसीसी बनवा सकते हैं। एक और खास बात यह कि अब किसान क्रेडिट कार्ड के लिए ही नहीं बल्कि पशुपालन और मछली पालन के लिए भी मिलेगा जिसमें कृषि के लिए ₹300000 के कर्ज से अलग केसीसी धारक पशुपालन और मछली पालन के लिए भी ₹200000 तक का कर्ज ले सकेगा यह किसान क्रेडिट कार्ड से जुड़ी पूरी जानकारी अगर आपके पास किसान क्रेडिट कार्ड है तो इसका सही तरीके से इस्तेमाल करें इससे मिलने वाली सहूलियतों का लाभ उठाये। 



    English Translation



    How to apply for Kisan Credit Card


    Today we will tell you why it is important for every farmer to have Kisan Credit Card and how you can make it.



    About Kisan Credit Card


                You must have heard the short form KCC of two or three letters. Its full form is Kisan Credit Card and as a farmer, you all must know how much its necessity has increased over the last few years. So if you are deprived of Kisan Credit Card, go immediately and get your Kisan Credit Card first today. Before telling you why there is so much Kisan Credit Card for a farmer, let us tell you when and for what purpose Kisan Credit Card was introduced.

              To solve the economic problems of the farmer's economic needs in the year 1998

    The Government of India had introduced this scheme as a gift to the farmer Kisan Credit Card which is a leading loan disbursement system. By taking crop loans under the Kisan Credit Card Key introduced by NABARD Reserve Bank of India, the farmer can fulfill all the needs related to the cultivation of his agricultural implements like fertilizer, seeds, pesticides, chemicals, etc. And can repay this debt by selling the products. Let me tell you that through KCC, apart from agricultural needs, the farmer can also take short term tax for his household needs like employment and fisheries, etc. Through Kisan Credit Card, a farmer can take a loan of 50 to ₹ 300000. But how much loan a farmer will get on the basis of his land is decided on the basis of farmer's income, his credit history, area of ​​cultivable land, the yield of previous crop production land, and cost of re-cultivating the farm. The percentage of interest in Kisan credit card loans is very low.


    2 categories in loans given under KCC


     1. Crop loan


                 I.e. crops loans. Once a Kisan Credit Card is issued, it is valid for 5 years. Any farmer can take a short term crop loan of up to ₹ 300000 in these 5 years. The interest rate on this loan is 7% per annum. But if a farmer pays his dues within 1 year, he gets a 3% discount in the interest rate, thus the percentage of interest is reduced to 4% per annum.

    Crop insurance is facilitated by taking crop loans. KCC provides assistance to the farmer in case of natural calamity, an outbreak of liver diseases, and crop failure.




    2. Term loan


               Any loan above ₹ 300000 is called term loan. Now, how much loan can you get above ₹ 300000? Whether it will be received or not, if it is received, how much interest will be charged on it is decided by the lending bank. No concession or grant is given to the farmer by the government. The merit of KCC is that under it, the farmer can easily get a loan for any reason other than agricultural work.

               The process is so simple that even a less educated or uneducated person can easily get a loan. Simultaneously, insurance coverage is also given to the farmer.

               Accident insurance cover is also given to Kisan Credit Card holders under which an amount of अगर 50000 is given in case of death of a farmer in an accident during agricultural works and an amount of ₹ 25000 is given in case of disability if the farmer becomes disabled. And this news is valid for the holder till the age of 70 years. Kisan credit cardholders get credit cards as well as passbooks. In this passbook, the name and address of the cardholder, the information of the agricultural land, the loan period, the validity period of the card, and the passport size photo of India are attached.

               For the farmer, this Kisan credit card also works as an identity card.


    How to apply for a Kisan credit card.


             Any such person can apply for the Kisan Credit Card. Whoever is a farmer, whether he cultivates his own land or cultivates someone else's land, the people involved in crop production can also apply for Kisan Credit Card by being single or by joining.

    Farmers can make credit cards.




    How to make Kisan Credit Card



            You can get Kisan Credit Card from any government or private bank. Every small and big farmer living in any part of India can take advantage of this. Kisan Credit Card is directly linked to Kisan's account. So that the farmer has his money in his account, why is the debt left, then the farmer should also get interest on it. If you are a farmer, of course, you should also have a Kisan credit card. Kisan is working on a plan to deliver credit cards to every farmer family of the country. At present, the KCC and the government want to double the scope of KCC before the 2019 Lok Sabha elections, which is around 70 million farmer families in the country, by doubling it to 14 crore.


            Now there is good news for those farmers who have not yet taken KCC that farmers will not have to visit the bank, again and again, to get Kisan Credit Card as the process of making KCC has been simplified earlier but still removed. Has gone Let me tell you that making Kisan Credit Card used to cost from Rs.2000 to Rs.5000 but recently the Indian Banks Association has issued an advisory in which all the banks have been asked.


    Documents required for making Kisan Credit Card


           In 3 documents you will be able to make Kisan Credit Card. How to make Kisan Credit Card? Identity Card, Aadhaar Card, PAN Card, Driving License, Address Proof, Ration Card, Land Documents, and Guarantor were also required. But now you can take only 3 documents because of all these documents to get it.




      1. You should have a record of land ownership




     2. Address proof i.e. on residence certificate




     3. Affidavit The applicant does not already have a loan from any other bank.




         Only on the basis of these documents, you can make your KCC. Another special thing is that now Kisan will be available not only for credit card but also for animal husbandry and fish farming in which apart from the loan of ₹ 300000 for agriculture, the KCC holder will also be able to take a loan of up to ₹ 20000 for animal husbandry and fish farming. Complete information related to Kisan Credit Card If you have a Kisan Credit Card, use it in the right way and take advantage of the benefits you get from it.


    How To Apply For Kisan Credit Card | किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे दे ? How To Apply For Kisan Credit Card | किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे दे ? Reviewed by Rudr Patil on June 08, 2020 Rating: 5

    No comments:

    '; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
    Powered by Blogger.